Poems

इंद्रधनुषीय माँ

हवा के बदले बस कुछ पत्तियां मांगती है , जिनके हिलने से प्राणवायु बहती है ,
छाया के बदले बस कुछ टहनियाँ मांगती है ,जिनके इकट्ठे होने से ही ठंडी छाया गिरती है।
तना भी उस खम्भे की तरह है जिस पर यह जीवन ऊर्जा टिकी रहती रहती है,
और जड़े उस नींव की तरह है जिससे वृक्ष रुपी प्रकृति प्रतिस्फुट होती रहती है।


मुसीबत में सबसे पहले माँ याद आती है,जैसा अब होने लगा है ,
सब चल पड़े अब उसकी क़द्र करने, हर कोई प्रकृति में खोने लगा है।
पानी आकाश मिटटी वृक्ष सब इसी के अलग अलग रूप है,
हम जिससे ऊर्जित हो यह वही तेजमयी धूप है।


माँ नाम जो जुड़ा है इस प्रकृति से तो,
तो’शायद चाहकर भी हमसे बदले में ज़्यादा चाह नहीं पाती है।
हम भूल जाते है उसे फिर भी छोड़कर जा नहीं पाती है ,
हमने दिया काला धुंआ और यह हमे इंद्रधनुष दे जाती है।
हमे ज़िंदा रखना है इसलिए और सिर्फ इसलिए कभी मर भी नहीं पाती है।।

धरती और पर्यावरण रूपी ईश्वर को शत शत नमन

3 thoughts on “इंद्रधनुषीय माँ”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s