Emotions, Inspirational, Poems

शब्दों का सफ़र

कभी सोचना ज़रूर… क्या शब्द भी सफर करते हैं?नहीं? तो क्यूँ चलते हैं हमारे साथ-साथ हमारी उम्र की तरह, क्यूँ छूट नहीं जाते उम्र के पड़ावों की तरह... जिन्हें ज्यादा याद न करो, समय समय पर तरज़ीह न दो,वो बचपन की तरह धुंधला जाते हैं,याद करने पर याद आ भी जाते हैं,भूल जाने पर अपना… Continue reading शब्दों का सफ़र

Emotions, Inspirational, Muktak (मुक्तक), Poems

होंसले की कश्ती

हौंसलो का साथ न छोड़ना अंत तक.. कई बार कश्ती भी किनारा कर लिया करती है, किनारा मिलने से पहले।।समझ जाते है दिल से जुड़े लोग अनकहे इशारों को..कोई इशारा मिलने से पहले।।

देश, Inspirational, Poems

हम भी है देश के

बहुत हुआ सोच विचार चलो अब कुछ कर जाए।इस देश के लिए या तो जी ले या मर जाए।।यूँ भी जाना ही है एक दिन यह धरती छोडकरक्यों ना अपनी धरा के हिस्से में भी थोड़ा गौरव भर जाए।इस देश के लिए या तो जी ले या मर जाए।।सौंधी मिटी की महक सस्ती नही है… Continue reading हम भी है देश के

Emotions, Inspirational, Poems

पापा आपके जन्मदिन पर

जीवन की धरा के वो हिमालय थे, कि बर्फ से जमे सदा, कठिनाइयों की गर्मी पास आने नही दी।तन कर खड़े थे यूँ कि अपनो के सम्मान पर आंच आने नहीं दी। ऊँचाई पर इतने फिर भी धरती की महक गुम हो जाने नहीं दी। दिल से बांधकर स्वछंदता दी हमें, कि पथभ्रष्ट की स्थिति… Continue reading पापा आपके जन्मदिन पर

Emotions, Inspirational, Uncategorized

चाँद उम्मीद का…

वक़्त के साथ रात और गहरी हो चली है, देखते है यह कब तक स्याह रह पायेगी, जब एक नारंगी रोशनी उसे छूकर सुबह में बदल जाएगी। हालांकि अमावस हो या पूर्णिमा, रात रात ही कहलाती है, अंधेरी हो या उजली, सुबह के ख्वाब दिखाती है। पर अंतर तो बस चाँद जितना है,चाहे वो आसमान… Continue reading चाँद उम्मीद का…

Inspirational, Uncategorized

दौर नर्म बारिश का

बारिशो का दौर है ,कैसे गुज़र जाने दे। कुछ नया आने को है, क्यों न उसे आने दे।। रंगहीन पानी ने रंग भर दिया चारो ओर , अपने तन मन को क्यों ना इसमें डुबाने दे बारिशो का दौर है , कैसे गुज़र जाने दे।। पंख लग जाते है, इस नन्हे से मन को, बादलो… Continue reading दौर नर्म बारिश का

Inspirational, Poems

निर्भय हो जा

दी हुई ज़िन्दगी उसकी, जैसा वो कहे वैसा कर जा जो वो कहे हिम पर्वत, तो बर्फ सा जम जा जो वो कहे शांत सरिता, तो निर्मल जल जैसे थम जा जो वो कहे पतझड़, तो सूखे पत्ते सा सहम जा फिर से उठ, न जमने के लिए न थमने के लिए ना अंत सामने… Continue reading निर्भय हो जा

Inspirational

गुरु वही जो साथ निभाये

ऐसा नहीं है कि कोई राह नही मेरे लिए मेरा गुरु वो जो साथ चलकर राह दिखाये । ऐसा नही है कि कोई सबक नही है मेरे लिए मेरा गुरु वो जो स्वयं का सबक मुझे सिखाये ।। अथाह ज्ञान है इस जग में, पर सारा मेरे लिए नही गुरु वही जो मेरे लिए जरूरी… Continue reading गुरु वही जो साथ निभाये