Muktak (मुक्तक)

एक खयाल

अपने सही होने का नाज़ था तुम्हें... तुम्हारे जैसे जो होने लगे लोग तो नाज़, नाराज़गी में क्यों बदलने लगा। जो शिकायतें थी कल तक हमारी उसका रंग तुम्हारी उम्मीदों में क्यों ढलने लगा।।

Emotions, Inspirational, Muktak (मुक्तक), Poems

होंसले की कश्ती

हौंसलो का साथ न छोड़ना अंत तक.. कई बार कश्ती भी किनारा कर लिया करती है, किनारा मिलने से पहले।।समझ जाते है दिल से जुड़े लोग अनकहे इशारों को..कोई इशारा मिलने से पहले।।

Emotions, Muktak (मुक्तक), Uncategorized

कैसे संभाल पाओगे

मशरूफ जो हुए हम, अपनी तन्हाइयो में, यक़ीन मानो, तुम्हारी ज़रूरत ना रहेगी, तुम्हारी नज़रअंदाज़ी, और मेरी तन्हाई ही बातें करेगी, ज़ुबान फिर कुछ न कहेगी।। लग गयी जो लत उस तन्हाई के नशे की हमें चाहकर भी तुम छुडा ना पाओगे, फिर तुम्हारी तनहाई और मेरी नज़र अंदाज़ी को गुफ़्तगू करते पाओगे।

Emotions, Muktak (मुक्तक), Uncategorized

जो ऐसा होता…

भुलाने के बजाय, जो माफ़ कर देते तो कितना अच्छा होता। नज़र तो उस ऐनक से साफ हुईं, जो नज़रिया भी साफ कर देते तो कितना अच्छा होता।। गलत तो सिर्फ कुछ मुग़ालते थे,और उस पर वो ख़ामोशी.. गर चंद बाते कर, इंसाफ कर देते तो कितना अच्छा होता।।

Muktak (मुक्तक), The start

उम्र ज़िन्दगी की…

मजबूरी नही, चाह होनी चाहिए ज़िन्दगी, मंज़िल नही, राह होनी चाहिए ज़िन्दगी। कुछ को लगती छोटी कुछ को लंबी चाहिए उम्र, पर हर तरह के पलो का जायका लिए, अथाह होनी चाहिये ज़िन्दगी।।

Emotions, Muktak (मुक्तक), Uncategorized

एक कैद ऐसी भी ….

खुशबू उस पुराने गुलाब की,अब तक ज़हन से गयी नही।बावज़ूद इस इल्म के, कि महक ये इतनी भी नयी नही।उस डायरी के पन्नो में जम गई है यादे इस तरह अब स्याही ने भी कहना शुरू कर दिया किसी को यूँ कैद करना सही नही।।खुशबू उस पुराने गुलाब की,अब तक ज़हन से गयी नहीं।।